BIS HALLMARKING

BIS HALLMARKING

BIS HALLMARK INTRODUCTION

BIS HALLMARKING: Indians has been fascinated with gold from ancient times and Gold is also a popular investment option for Indian residents to keep them safe during tough times. Thus, in order to protect consumers from adulteration and to obligate jewellers to maintain a legal standard of purity, the Bureau of Indian Standards (BIS) launched a Jewellers Registation scheme. BIS launched the gold hallmarking scheme in 2000 and a silver hallmarking scheme in 2005. According to this scheme, the BIS hallmark license is mandatory to manufacture or sell gold or silver jewellery. The number of registered jewellers has increased by about 18 percent on average over the last three years, while the number of registered Assaying & Hallmarking (A&H) Centers has increased by about 25 percent per year.

Without adequate examination, it is impossible to identify the purity of gold simply by feeling or looking at it. Two BIS Hallmark gold ornaments with the same pattern and style may differ substantially due to differences in gold purity. BIS Hallmark Registration can reduce these concerns by providing all of the necessary information and confirming the purity of the gold.

Hallmarking: A hallmark is an official mark or sequence of marks stamped on metal products, usually to confirm the number of noble metals like platinum, gold, silver, and palladium in some countries. The BIS hallmarking scheme for gold and silver is accessible, and in India hallmarking is required to confirm the metal's purity before introducing the Gold & Silver products to consumers.

PARTS OF A BIS HALLMARK

Earlier, the BIS Hallmark for gold objects were made up of five elements, components, or marks (that's also known as old method of Hallmarking). The presence of hallmarking stamps on your gold indicates that it meets the 'Bureau of Indian Standards' purity specifications.

These are the marks of Hallmarking:

Old Methods of HallMarking of Gold

Old Methods of HallMarking
  1. BIS Standard Mark: The BIS Standard Mark is a triangle mark that shows that a third party or independent assessor has properly evaluated the decoration and validated the metal's purity. In most cases, it is validated by one of the BIS-approved laboratories (Hallmarking centre). BIS is the only government-approved institution for hallmarking gold ornaments (Jewellery Hallmarking).

  2. Purity Grade: Karats (denoted as KT) and Fineness Number are two ways to determine the purity of gold. The purest type of gold is 24 KT, but it is too soft to be utilized in jewellery or ornamentation. As a result, a trace amount of other metals, such as zinc or silver, is added to gold to create long-lasting jewellery or adornment. The carat value of gold jewellery is typically measured in three numbers and varies from 22k to 14k. A 22k gold ring, for example, has a purity grade of 916 HallMark. It denotes purity of 916 parts per 1000 or 91.6 percent. Similarly, 18k and 14k gold jewellery have purity grades of 750 and 585, respectively.

  3. Hallmarking Centre's Mark: This is the BIS-licensed trademark (Hallmarking License) of the marking centre or third-party evaluator. The label is stamped on every product in the centre and is inspected for purity of gold and silver. This is done so that the object may be tracked back to the centre if any inconsistencies arise afterwards.

  4. Year of Marking: This represents the year the object was labeled or Hallmarked. The marking year is identified by a letter of code assigned by BIS. For example, the code letter "A" stood for 2000, "B" for 2001, and so on.

  5. Jeweller Mark: This is the jeweller's or manufacturer's mark on the piece. Each BIS- accredited jeweller's decorations bear a distinct jeweller BIS hallmark logo. All of these markings are readily visible on the jewellery. To confirm the purity of a piece of jewellery, look for these indications.

New Methods of HallMarking

New Methods of HallMarking

Recently BIS has Introduced a new system for marking Jewellery. The new method contains HallMarking Unique Identification Number with BIS Hallmark and purity of the metal.

The government of India announced in November 2019 that hallmarking of gold jewellery and artifacts would be mandatory across the country beginning January 15, 2021. However, owing to the epidemic, the deadline was pushed back four months, from June 1 to June 15. Consumer Affairs Minister Piyush Goyal made this decision during a meeting with industry stakeholders. Hallmarking is an official mark that is recognized internationally on precious metal items.

After fulfilling the terms and conditions of the certificate of registration as specified in regulation 5 of the Bureau of Indian Standards (Hallmarking) Regulations, 2018, precious metal articles of gold marked with hallmark shall be sold only by registered jewellers through certified sales outlets. The BIS hallmarking centres list and BIS hallmark jewellers list can be found on the Bureau of Indian Standard's official website. The list of licensed jewellers can be accessed by selecting the region/state & IS Number.

Hallmarking is an official mark that is recognized internationally on precious metal items. Hallmarking Licence (certificate of registration) is required in India for certified jewellers to sell or produce hallmark gold and silver jewellery or artefacts. The BIS approved jewellery mark is required from any of the Assay and Hallmarking centre recognised with the Bureau of Indian Standard.

The process of BIS Hallmarking involves three major sections Homogeneity Test, Purity Test & product marking. In homogeneity test all the items in the sample having similar traits are tested to confirm that the sample complies necessary BIS standards.

BIS Registration for Hallmarking Showroom/Jewellers

A jeweller who wishes to sell BIS Hallmarked gold jewellery or artefacts must first get hallmarking registration from BIS for each of their sales outlets. The Registration is granted to the jeweller for the specified location if the application in the prescribed format along with relevant paperwork documents is deemed to be in order, and the required cost is paid and as well as the signing of the agreement for the operation of licence by the jeweller. If the jeweller additionally wishes to sell Hallmarked silver jewellery/artefacts, a separate registration from BIS must be obtained by filing a second application.

Following the grant of a licence, the jeweller must adhere to the agreement's terms and conditions. The hallmark licence may be revoked if there are deviations in the purity of precious metals (gold/silver) or if activities are not carried out in accordance with stipulated specifications. BIS has the authority to launch penalty proceedings. BIS visits the sales outlet periodically and randomly selects a sample of Hallmarked goods currently on sale to be tested against the appropriate Indian Standard at its own referral assay labs. If a sample fails, the jeweller and the assaying and hallmarking centre are both will be accountable.

>BIS Registration for Hallmarking Showroom/Jewellers

Procedure for BIS Registration for Hallmarking Showroom

BIS hallmark registration processes are as follows:

Sl.No Step Following Working Days
1 Step 1: Documentation prior to submission of application 2-3 Working days
2 Step 2: Online portal generation on BIS website
3 Step 3: Submission of application online through BIS hallmarking portal (Manakonline portal) 4-5 Working days
4 Step 4: Scrutiny of application file by BIS officials
5 Step 5: Grant of BIS registration Certificate

Documents requirement for BIS Registration for Hallmarking Showroom

Following are the Documents required for hallmark license for jeweller:

  1. Premises Document (Sell Deed/Rent Agreement)
  2. Showroom Establishment Certificate (Business Licence)
  3. GST Certificate
  4. Turnover proof
  5. Owners Identity proof (Aadhar Card)
  6. Logo of the showroom
  7. Letter Head (for Registered Email ID and Contact No.)
  8. Location of Showroom on Map
  9. 2-3 photos of showroom (inside & outside)

Guideline for Registration of Jewellers

BIS RECOGNITION OF ASSAYING & HALLMARKING CENTRE

If a store owner or jeweller wants to sell ready-made hallmarked jewellery, the purity and quality of the gold should be checked at a hallmark centre. A hallmarking centre is the marking centers or third-party evaluator's BIS Hallmark licensed trademark. Every product in the centre has a label that is stamped and examined for purity. This is done so that if any contradictions develop later, the object may be tracked back to the centre. Jewellery/artefacts are hallmarked in BIS-certified hallmarking centre that serve as testing laboratories. These hallmarking facilities, centres, and labs are positioned within city limits or in busy commercial or business buildings close to the jewellery-hubs and markets for assaying and hallmarking of gold and /or silver jewellery / artefacts. The term "assaying" refers to the quantitative chemical analysis of precious metals. Assaying refers to the process of determining the amount of gold in a piece of jewellery or a product.

The following are the steps involved in assaying and hallmarking of gold and /or silver jewellery / artefacts.

  1. Reception section: The first step starts from reception. Here Jewelry are received from different parties, and here jewellers are sorted as per the purity claimed by the party, and after acceptance, jewellery is sent for assaying.

  2. X-ray Fluorescence (XRF) section: after receiving the jewellery sample, the fineness (purity as declared by the customer) of the samples are verified by the XRF machine by comparing with the reference material.

  3. Melting section: The accepted samples are drilled in the defined quantity as per BIS guidelines, and these drilled/cut piece of sample is then homogenised in melting furnace in graphite crucibles.

  4. Sample preparation: The sample is weighed i..e. silver and copper is mixed with the homogenised sample and put in lead foil, which is then assayed. Out of several techniques available for assaying precious metals, Fire Assaying is one of the oldest and most reliable methods for the quantitative analysis of gold and silver.

  5. BIS Recognition of Assaying & Hallmarking Centre
  6. Assaying section (Fire Assay Test): As per the standard IS 15820:2009, Assay and Hallmarking of gold are done by the fire assay test as per the method IS 1418: 2009 (Assaying of Gold in Gold Bullion, Gold alloys and Gold Jewelry/Artefacts). In this test, magnesia or calcium phosphate cupels, parting acids (Nitric acids of specific gravity 1.2 & 1.3 g/cm 3 ), lead foil, precious metals (silver) and other metals like copper are used. The fire assay method is based on the principle of removal of all base metals like lead, copper, etc., present in the sample from noble metals like gold and silver through the process of cupellation and Parting.

  7. Cupellation: in this process, samples are kept in cupels for cupellation inside the muffle furnace for 25 min at 1100 oC. During the process, lead is oxidized into lead oxide& emitted in the form of fumes, whereas other impurities along with lead are absorbed in cupels.

  8. Parting: Once cupellation is completed, a gold and silver alloy in the form of bead is obtained. Separating silver from gold by selectively dissolving silver-gold alloy in Nitric acid is known as parting.

Procedure for BIS Recognition of Assaying & Hallmarking Centre

The following are the process of BIS hallmarking centre registration certification.

Sl. No. Steps Period
1 Documentation prior to submission of application Up to 30 Working days
2 Online portal generation on BIS website
3 Infrastructure Development
4 CRM sample testing in BIS laboratory
5 Calibration of equipment with NABL Lab
6 Testing In-house sample and participate for ILC with other Hallmarking Centre.
7 Development of files and formats
8 Staff Training and laboratory Installation.
9 Submission of application along with test report (Online) 13-15 Working days
10 Submission of hardcopy of complete application to BIS office
11 Scrutiny of application file by BIS officials: Pre-Audit
12 On-site Inspection by BIS officials
13 Scrutiny of application file by BIS officials: Post-Audit 10-15 Working days
14 Grant of BIS Licence

BIS HALLMARKING CENTRE REQUIREMENT:

Documents requirement for BIS Recognition of Assaying & Hallmarking Centre

  1. Premises Documents Registry or Rent Deed
  2. Director/Partner ID Proof
  3. GST copy
  4. MSME Copy
  5. Electricity Bill
  6. Logo of the Hallmarking Centre
  7. NOC from Pollution Department
  8. MOA/Partnership Deed
  9. Details of 8 Employees with Qualifications Certificate and I'd Proof
  10. BIS hallmark centre application form in prescribed format

Hallmark Licence Fees

The hallmarking registration fees to the BIS, as specified in the Hallmarking Regulations, 2018, must be paid by the centre by the 10th of the following month, failing which necessary action will be taken in accordance with the Hallmarking Regulations, 2018.

Guideline for Recognition of Assaying & Hallmarking Center

The Aleph INDIA Group has established itself as one of the most trusted names in the business world. Our customers can choose from a variety of BIS Hallmarking Consultancy (Gold Hallmarking and silver hallmarking Consultancy) Services. The BIS Hallmark consultants services provided are conducted in accordance with industry standards. Furthermore, these experts' services are praised for their inexpensive costs and prompt implementation. Aleph INDIA is a one-stop solution for compliance services such as BIS Hallmark Registration (Hallmarking BIS Registration) under the CRS program, NABL accreditation, BEE approval, WPC approval, ISI certification, and TEC approval. We offer a single point of contact for all types of certifications and testing equipment, allowing you to enhance your management system and, as a result, your quality. The services we provide are designed with a client-centric approach in mind, ensuring that our customers are completely satisfied. For More Info Visit BIS Hallmark

Aleph INDIA

FREQUENTLY ASKED QUESTIONS (FAQ)

    Hallmarking is the exact determination and official recording of the proportionate content of precious metal in metal articles. Hallmarks are thus official marks used in India as a symbol of the purity or fineness of precious metal articles.

    It will indicate the capability, transparency and strong evidence of commitment to quality and assurance in purity and quality of gold or silver jewellery.

    It provides satisfaction and security to customers that they are getting the right purity of gold or silver for the value of money they are paying for it.

    The main objective of this scheme is to protect the consumer against victimization due to irregular gold or silver quality. It will be beneficial in developing India as a leading gold market centre in the world.

    IS 1417:2016 permits Gold jewellery/artefacts of 14 carats, 18 carats and 22 carats to be hallmarked. However, an amendment to the Indian Standard is being issued, which would permit Hallmarking of six caratages of gold jewellery/ artefacts, viz. 14, 18, 20, 22, 23 and 24 carats.

    In India, at present, two precious metals, namely gold and silver, have been brought under the BIS compulsory certification scheme of Hallmarking.

    1. IS 1417: 2016 Gold and Gold Alloys, Jewellery/Artefacts-Fineness and Marking- Specification
    2. IS 2112:2014 Silver and Silver Alloys, Jewellery/Artefacts-Fineness and Marking- Specification
    3. IS 15820: 2009 General Requirements for establishment and operation of Assaying and operation of Assaying and Hallmarking centres.
    4. IS 1418: 2009 Determination of gold in gold bullion, gold alloys and gold jewellery/artefacts-cupellation (Fire Assay) method.
    5. IS 2113: 2014 Assaying Silver in Silver and Silver Alloys-Methods.

    BIS, through its network of Regional/ Branch Offices all over the Country, operates the Hallmarking Scheme for gold and silver jewellery.

    The testing of the jewellery, as well as the marking, is done in BIS approved Assaying & Hallmarking Centres across the nation. These are private undertakings approved as well as monitored by the BIS. Whereas a showroom where jewellery which has already been marked by the centre is sold to customers.

    Rs. 35/- per article, Minimum charges for a consignment shall be Rs. 200/-(Services Tax and other levies as applicable shall be extra).

    Rs.25/-per article minimum charges per consignment are Rs 150.00. (Services Tax and other levies as applicable shall be extra).

    Hallmarking charges are paid per article irrespective of the weight of the article.

    The list of BIS Registered jewellers is available on BIS website and can be accessed by following the link https://bis.gov.in/index.php/hallmarking-overview/jewellers-registration-scheme/list-of-licensed-jewellers/

    Yes, after paying testing charges of Rs. 200 to any of BIS recognized A&H centres. The list of BIS recognized A&H centres is available at BIS website www.bis.gov.in under the hallmarking tab.

    The list of BIS Recognized Assaying and Hallmarking centres is available on BIS website and can be accessed by following the link: https://www.manakonline.in/MANAK/AHCListForWebsite

    Karats (denoted as KT) and Fineness Number are two ways to determine the purity of gold. The carat value of gold jewellery is typically measured in three numbers and varies from 14k to 22k. e.g. A 22k gold ring has a purity grade of 916 HallMark. It denotes purity of 916 parts per 1000 or 91.6 percent. Similarly, 18k and 14k gold jewellery have purity grades of 750 and 585, respectively.

    BIS hallmark licence can be obtained for Hallmarking Showrooms & Assaying and Hallmarking Centres. The detailed hallmarking procedures are mentioned above for both Hallmarking Showroom & centre.

BIS हॉलमार्किंग

हॉलमार्क का परिचय

BIS हॉलमार्किंग : भारतीय प्राचीन काल से ही सोने के प्रति आकर्षित रहे है। भारतीयो के लिए सोना एक निवेश का अच्छा विकल्प रहा है, यह उनके कठिन समय में आर्थिक सहायता के रूप में काम आता है। यह महिलाओ के सौंदर्य के साथ-साथ व्यक्ति के समृद्धि का प्रतिक होता है।

सोने में मिलावट से बचाने और ज्वैलर्स को सोने की शुद्धता के कानूनी मानक बनाए रखने के लिए, भारतीय मानक ब्यूरो ने वर्ष 2000 में गोल्ड हॉलमार्किंग योजना और 2005 में सिल्वर हॉलमार्किंग योजना शुरू की। इस योजना के अनुसार, सोने या चांदी के आभूषण बनाने या बेचने के लिए BIS हॉलमार्क लाइसेंस अनिवार्य है। पंजीकृत ज्वैलर्स की संख्या में पिछले तीन वर्षों में औसतन लगभग 18 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि पंजीकृत परख और हॉलमार्किंग (ए एंड एच) केंद्रों की संख्या में प्रति वर्ष लगभग 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

हॉलमार्किंग: हॉलमार्क एक धातु उत्पादों पर अंकित आधिकारिक चिह्न है, जो आमतौर पर प्लैटिनम, सोना, चांदी और पैलेडियम जैसी धातुओं की शुद्धता की पुष्टि करने के लिए होता है। सोने की शुद्धता को बिना जाँच किए, केवल देखकर पहचान करना असंभव है। समान हॉलमार्किंग वाले दो आभूषण, सोने की शुद्धता में अंतर के कारण काफी भिन्न हो सकते हैं।

BIS हॉलमार्किंग योजना सोने और चांदी की शुद्धता प्रमाणीकरण की एक योजना है जिसके तहत भारत में सोने और चांदी के उत्पादों को बेचने से पहले हॉलमार्किंग कराना अनिवार्य है ताकि सोने और चाँदी की शुद्धता की पुष्टि की जा सके।

BIS हॉलमार्क के भाग

पहले, सोने की वस्तुओं के लिए BIS हॉलमार्क पांच चिह्नों से बना होता था (जिसे हॉलमार्किंग की पुरानी विधि के रूप में भी जाना जाता है)। आपके सोने पर हॉलमार्किंग चिह्नों की उपस्थिति यह दर्शाती है कि यह 'भारतीय मानक ब्यूरो' की शुद्धता विनिर्देशों को पूरा करता है।

ये हैं हॉलमार्किंग के निशान:

सोने की हॉलमार्किंग के पुराने तरीके

Old Methods of HallMarking
  1. BIS मानक चिह्न: BIS मानक चिह्न एक त्रिभुजाकार चिह्न है जो यह दर्शाता है BIS- अनुमोदित प्रयोगशाला( हॉलमार्किंग केंद्र) या स्वतंत्र मूल्यांकनकर्ता ने उचित मूल्यांकन किया है और धातु की शुद्धता को मान्य किया है। BIS सोने के गहनों (आभूषण हॉलमार्किंग) की हॉलमार्किंग के लिए सरकार द्वारा अनुमोदित एकमात्र संस्थान है।

  2. शुद्धता ग्रेड: कैरेट और फाइननेस नंबर सोने की शुद्धता को निर्धारित करने के दो तरीके हैं। सबसे शुद्ध प्रकार का सोना 24 KT है, लेकिन यह इतना नरम होता है कि इसका उपयोग आभूषण या अलंकरण में नहीं किया जा सकता है। लंबे समय तक चलने वाले आभूषण या अलंकरण बनाने के लिए अन्य धातुओं, जैसे जस्ता या चांदी, की थोड़ी मात्रा को सोने में मिलाया जाता है। सोने के आभूषणों का कैरेट आमतौर पर तीन संख्याओं में मापा जाता है : 22K, 18K, 14K. 22k सोने में शुद्धता ग्रेड 916 हॉलमार्क होता है। यह प्रति 1000 या 91.6 प्रतिशत पर 916 भागों की शुद्धता को दर्शाता है। इसी तरह, 18k और 14k सोने के आभूषणों की शुद्धता ग्रेड क्रमशः 750 और 585 है।

  3. हॉलमार्किंग सेंटर का मार्क: यह हॉलमार्किंग सेंटर या तीसरे पक्ष के मूल्यांकनकर्ता का BIS-लाइसेंस प्राप्त ट्रेडमार्क है। हॉलमार्किंग केंद्र में प्रत्येक आभूषण पर लेबल लगाया जाता है और सोने और चांदी की शुद्धता के लिए निरीक्षण किया जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि बाद में कोई भी विसंगति उत्पन्न होने पर केंद्र का पता लगाया जा सके।

  4. हॉलमार्किंग का वर्ष: यह आभूषण के हॉलमार्किंग वर्ष को दर्शाता है।

  5. ज्वैलर मार्क: यह आभूषण पर ज्वैलर या निर्माता का मार्क होता है।

हॉलमार्किंग के नए तरीके

New Methods of HallMarking

हाल ही में BIS ने आभूषणों को चिह्नित करने के लिए एक नई प्रणाली शुरू की है। नई विधि में BIS हॉलमार्क और धातु की शुद्धता के साथ हॉलमार्किंग विशिष्ट पहचान संख्या शामिल है।

भारत सरकार ने नवंबर 2019 में घोषणा की कि 15 जनवरी, 2021 से पूरे देश में सोने के आभूषणों और कलाकृतियों की हॉलमार्किंग अनिवार्य होगी। भारतीय मानक ब्यूरो (हॉलमार्किंग) विनियम, 2018 के विनियम 5 में निर्दिष्ट पंजीकरण प्रमाण पत्र के नियमों और शर्तों को पूरा करने के बाद, सोने कि वस्तुओं को केवल प्रमाणित पंजीकृत ज्वैलर्स द्वारा बिक्री आउटलेट के माध्यम से बेचा जाएगा।

BIS हॉलमार्किंग केंद्रों की सूची और BIS हॉलमार्क ज्वैलर्स की सूची भारतीय मानक ब्यूरो की आधिकारिक वेबसाइट पर देखी जा सकती है। लाइसेंस प्राप्त ज्वैलर्स की सूची क्षेत्र/राज्य और आईएस नंबर का चयन करके प्राप्त की जा सकती है।

हॉलमार्किंग एक आधिकारिक चिह्न है जिसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमती धातु की वस्तुओं पर चिन्हित किया जाता है। भारतीय मानक ब्यूरो से मान्यता प्राप्त किसी भी परख और हॉलमार्किंग केंद्र से आभूषण को हॉलमार्क करना आवश्यक है। भारत में हॉलमार्क सोने और चांदी के आभूषण या कलाकृतियों को बेचने या उत्पादन करने के लिए हॉलमार्किंग लाइसेंस ज्वैलर्स के लिए आवश्यक है।

हॉलमार्किंग शोरूम / ज्वैलर्स के लिए BIS पंजीकरण

एक जौहरी जो BIS हॉलमार्क वाले सोने के आभूषण या कलाकृतियों को बेचना चाहता है, उसे पहले अपने प्रत्येक बिक्री आउटलेट के लिए BIS से हॉलमार्किंग पंजीकरण प्राप्त करना होगा। ज्वैलर के आवेदन करने और दस्तावेजों को निर्धारित प्रारूप में तथा आवेदन शुल्क भुगतान करने के पश्चात BIS द्वारा निर्दिष्ट स्थान के लिए पंजीकरण प्रमाणपत्र दिया जाता है। यदि ज्वैलर हॉलमार्क वाले चांदी के आभूषणों/कलाकृतियों को अतिरिक्त रूप से बेचना चाहता है, तो दूसरा आवेदन दाखिल करके BIS से एक अलग पंजीकरण प्राप्त करना पड़ेगा।

लाइसेंस प्राप्त करने के बाद, ज्वैलर को BIS के नियमों और शर्तों का पालन करना होगा। यदि कीमती धातुओं (सोने/चांदी) की शुद्धता में त्रुटि होती है या निर्धारित विनिर्देशों (रेगुलेशन) के अनुसार गतिविधियां नहीं की जाती हैं तो हॉलमार्क लाइसेंस रद्द किया जा सकता है। BIS समय-समय पर बिक्री आउटलेट का दौरा करता है और बेतरतीब ढंग से बिक्री के लिए हॉलमार्क वाले सामानों के नमूने का चयन करता है, जिसका परीक्षण BIS के प्रयोगशालाओं में किया जाता है। यदि एक नमूना विफल रहता है, तो जौहरी और परख और हॉलमार्किंग केंद्र दोनों जिम्मेदार होंगे और BIS उनके ऊपर जुर्माना या क़ानूनी कार्यवाही कर सकता है।

>BIS Registration for Hallmarking Showroom/Jewellers

हॉलमार्किंग शोरूम के लिए BIS पंजीकरण की प्रक्रिया

BIS हॉलमार्क पंजीकरण प्रक्रिया इस प्रकार है:

चरण कार्य-दिवस
चरण 1: आवेदन जमा करने से पहले दस्तावेज़ीकरण (Documentation) 2-3 कार्य-दिवस
चरण 2: BIS वेबसाइट पर ऑनलाइन पोर्टल बनाना
चरण 3: BIS हॉलमार्किंग पोर्टल (Manakonline Portal) के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन जमा करना 4-5 कार्य-दिवस
चरण 4: BIS अधिकारियों द्वारा आवेदन फ़ाइल की जांच
चरण 5: BIS पंजीकरण प्रमाणपत्र प्रदान करना

हॉलमार्किंग शोरूम के लिए BIS पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज

हॉलमार्क लाइसेंस के लिए आवश्यक दस्तावेज निम्नलिखित हैं:

  1. परिसर दस्तावेज़ (सेल डीड / रेंट एग्रीमेंट)
  2. शोरूम स्थापना प्रमाणपत्र (बिजनेस लाइसेंस)
  3. जीएसटी (GST) प्रमाणपत्र
  4. टर्नओवर सबूत
  5. पहचान प्रमाण (आधार कार्ड)
  6. शोरूम का लोगो
  7. लेटर हेड (पंजीकृत ईमेल आईडी और संपर्क नंबर के लिए)
  8. मानचित्र पर शोरूम का स्थान
  9. शोरूम की 2-3 तस्वीरें (अंदर और बाहर)

परख और हॉलमार्किंग केंद्र के लिए BIS सर्टिफिकेशन

अगर कोई ज्वैलर रेडीमेड हॉलमार्क वाली ज्वैलरी बेचना चाहता है, तो हॉलमार्क सेंटर पर सोने की शुद्धता और गुणवत्ता की जांच की जानी चाहिए। हॉलमार्किंग केंद्र BIS प्रमाणित अंकन केंद्र या मूल्यांकन केंद्र होता है जहां मूल्यवान धातुओं की शुद्धता की जांच की जाती है और उस पर मुहर लगाई जाती है । ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि यदि बाद में कोई अंतर्विरोध होता है, तो वस्तु को वापस केंद्र में लाया जा सकता है। आभूषण/कलाकृतियों को BIS-प्रमाणित हॉलमार्किंग केंद्र में हॉलमार्क किया जाता है जो परीक्षण प्रयोगशालाओं के रूप में कार्य करता है।

सोने या चांदी के आभूषणों/ कलाकृतियों की परख और हॉलमार्किंग में शामिल प्रक्रिया निम्नलिखित हैं।

  1. रिसेप्शन सेक्शन : पहला कदम रिसेप्शन से शुरू होता है। यहां विभिन्न पार्टियों से आभूषण प्राप्त होते हैं, और आभूषणों को परखने के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाता है।

  2. एक्स-रे (X-ray) फ्लोरोसेंस (एक्सआरएफ) खंड : आभूषण का नमूना प्राप्त करने के बाद, नमूनों की शुद्धता (ग्राहक द्वारा घोषित शुद्धता) को संदर्भ सामग्री के साथ तुलना करके XRF मशीन द्वारा सत्यापित किया जाता है।

  3. मेल्टिंग सेक्शन : स्वीकृत नमूनों को BIS दिशानिर्देशों के अनुसार परिभाषित मात्रा में ड्रिल किया जाता है, और फिर इन ड्रिल्ड / कटे हुए नमूने को ग्रेफाइट क्रूसिबल में पिघलने वाली भट्टी में समरूप बनाया जाता है।

  4. नमूना तैयार करना : चांदी और तांबे को समरूप नमूने के साथ मिश्रित किया जाता है और लेड फॉयल(Foil) में डाल दिया जाता है, जिसे बाद में परख लिया जाता है। कीमती धातुओं को परखने के लिए उपलब्ध कई तकनीकों में से, अग्नि परख तकनीक सोने और चांदी के मात्रात्मक विश्लेषण के लिए सबसे पुराने और सबसे विश्वसनीय तरीकों में से एक है।

  5. BIS Recognition of Assaying & Hallmarking Centre
  6. परख अनुभाग (अग्नि परख परीक्षण) : IS 15820:2009 के अनुसार, अग्नि परख परीक्षण द्वारा सोने की परख और हॉलमार्किंग IS 1418: 2009 की विधि के अनुसार की जाती है। इस परीक्षण में, मैग्नेशिया या कैल्शियम फॉस्फेट, पार्टिंग एसिड (विशिष्ट गुरुत्व के नाइट्रिक एसिड 1.2 और 1.3 ग्राम/सेमी3), लेड फॉयल , कीमती धातु (चांदी) और तांबे जैसी अन्य धातुओं का उपयोग किया जाता है।

  7. कप्पेलशन : इस प्रक्रिया में, नमूनों को मफल भट्टी के अंदर 25 मिनट के लिए 1100°C पर रखा जाता है। प्रक्रिया के दौरान, लेड को लेड ऑक्साइड में ऑक्सीकृत किया जाता है और धुएं के रूप में उत्सर्जित किया जाता है, जबकि लेड के साथ अन्य अशुद्धियाँ कपल्स में अवशोषित हो जाती हैं।

  8. पार्टिंग : एक बार कपेलेशन पूरा हो जाने पर, मनके के रूप में एक सोने और चांदी की मिश्र धातु प्राप्त होती है। नाइट्रिक एसिड में चांदी-सोने की मिश्र धातु को घोलकर सोने से चांदी को अलग करना पार्टिंग कहलाता है।

हॉलमार्किंग केंद्र की BIS मान्यता के लिए प्रक्रिया

BIS हॉलमार्किंग केंद्र पंजीकरण प्रमाणन की प्रक्रिया निम्नलिखित है।

क्रमांक चरण अवधि
1 आवेदन जमा करने से पहले दस्तावेज तैयार करना 30 कार्य दिवसों तक
2 BIS वेबसाइट पर ऑनलाइन पोर्टल निर्माण करना
3 हॉलमार्किंग केंद्र के लिए बुनियादी ढांचे का निर्माण
4 BIS प्रयोगशाला में सीआरएम (CRM) नमूना का परीक्षण
5 एनएबीएल (NABL) लैब में उपकरणों का मापांकन
6 इन-हाउस (In-House) नमूने का परीक्षण करना और अन्य हॉलमार्किंग केंद्र के साथ आईएलसी के लिए भाग लेना।
7 फाइलों और प्रारूपों को तैयार करना
8 स्टाफ प्रशिक्षण और प्रयोगशाला की स्थापना
9 परीक्षण रिपोर्ट के साथ आवेदन जमा करना (ऑनलाइन) 13-15 कार्य दिवस
10 पूर्ण आवेदन की हार्डकॉपी BIS कार्यालय में जमा करना
11 BIS अधिकारियों द्वारा आवेदन फाइल की जांच: प्री-ऑडिट
12 BIS अधिकारियों द्वारा केंद्र का निरीक्षण
13 BIS अधिकारियों द्वारा आवेदन फाइल की जांच: पोस्ट-ऑडिट 10-15 कार्य दिवस
14 BIS लाइसेंस का अनुदान

BIS हॉलमार्किंग केंद्र के लिए आवश्यक दस्तावेज

परख और हॉलमार्किंग केंद्र की BIS मान्यता के लिए आवश्यक दस्तावेज

  1. परिसर दस्तावेज़ रजिस्ट्री या रेंट डीड
  2. निदेशक/साझेदार आईडी प्रमाण
  3. जीएसटी (GST) कॉपी
  4. एमएसएमई(MSME) कॉपी
  5. बिजली का बिल
  6. हॉलमार्किंग सेंटर का लोगो (Logo)
  7. प्रदूषण विभाग से एनओसी (NOC)
  8. एमओए/साझेदारी विलेख
  9. योग्यता प्रमाण पत्र और पहचान प्रमाण पत्र के साथ 8 कर्मचारियों का विवरण
  10. निर्धारित प्रारूप में BIS हॉलमार्क केंद्र का आवेदन पत्र

हॉलमार्क लाइसेंस शुल्क

हॉलमार्किंग विनियम, 2018 के अनुसार BIS को हॉलमार्किंग पंजीकरण शुल्क का भुगतान हॉलमार्किंग केंद्र द्वारा अगले महीने की 10 तारीख तक किया जाना चाहिए, ऐसा न करने पर BIS द्वारा आवश्यक कार्रवाई की जा सकती हैं।

एलेफ इंडिया के बारे में :

एलेफ इंडिया समूह ने खुद को व्यापारिक दुनिया में सबसे भरोसेमंद नामों में से एक के रूप में स्थापित किया है। हमारे ग्राहक विभिन्न प्रकार की BIS हॉलमार्किंग कंसल्टेंसी (गोल्ड हॉलमार्किंग और सिल्वर हॉलमार्किंग कंसल्टेंसी) सेवाओं में से चुन सकते हैं।

एलेफ इंडिया BIS हॉलमार्क पंजीकरण (हॉलमार्किंग BIS पंजीकरण), एनएबीएल मान्यता, बीईई अनुमोदन, डब्ल्यूपीसी अनुमोदन, आईएसआई प्रमाणीकरण, और टीईसी अनुमोदन जैसी अनुपालन सेवाओं के लिए वन-स्टॉप समाधान है। हम सभी प्रकार के प्रमाणपत्रों और परीक्षण उपकरणों के लिए एकल संपर्क बिंदु प्रदान करते हैं। हमारे द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं ग्राहक को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन की गई हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि हमारे ग्राहक पूरी तरह से संतुष्ट हैं।

Aleph INDIA

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

    धातु की शुद्धता का निर्धारण और आधिकारिक रिकॉर्डिंग हॉलमार्किंग कहलाता है। हॉलमार्क सोने की शुद्धता का पैमाना होता है। हॉलमार्क कीमती धातु की वस्तुओं की शुद्धता के प्रतीक के रूप में उपयोग किए जाने वाले आधिकारिक चिह्न हैं।

    यह ज्वैलर का सोने या चांदी के आभूषणों की शुद्धता और गुणवत्ता के प्रति प्रतिबद्धता , पारदर्शिता को प्रदर्शित करता है।

    भारत में हॉलमार्किंग सोने और चांदी के लिए अनिवार्य है।

    आभूषणों का परीक्षण, अंकन, परख और हॉलमार्किंग केंद्रों में किया जाता है। ये निजी उपक्रम हैं जो BIS द्वारा अनुमोदित होते है। जबकि एक शोरूम में पहले से ही हॉलमार्क आभूषण ग्राहकों को बेचे जाते हैं।

    BIS के अनुसार, हॉलमार्किंग शुल्क 35 रुपये प्रति वस्तु है, जिसमें एक कन्साइनमेंट के लिए न्यूनतम 200 रुपये का शुल्क है।

    BIS के अनुसार,चांदी के लिए हॉलमार्किंग शुल्क 25 रुपये प्रति वस्तु है, जिसमें एक कन्साइनमेंट के लिए न्यूनतम 150 रुपये का शुल्क है।

    सोने की शुद्धता को निर्धारित करने के लिए कैरेट (kt) और फाइननेस नंबर दो तरीके हैं। सोने के आभूषणों का कैरेट मूल्य आमतौर पर तीन संख्याओं में मापा जाता है और यह 14k से 22k तक भिन्न होता है। उदाहरण के लिए 22k सोने की अंगूठी में शुद्धता ग्रेड 916 हॉलमार्क होता है। यह प्रति 1000 या 91.6 प्रतिशत पर 916 भागों की शुद्धता को दर्शाता है। इसी तरह, 18k और 14k सोने के आभूषणों की शुद्धता ग्रेड क्रमशः 750 और 585 है।

POPUP IMAGE
POPUP IMAGE